Skip to main content

श्रीमद्‌ भगवद्‌गीता यथारूप

अध्याय 1: कुरुक्षेत्र के युद्धस्थल में सैन्यनिरीक्षण
अध्याय 2: गीता का सार
अध्याय 3: कर्मयोग
अध्याय 4: दिव्य ज्ञान
अध्याय 5: कर्मयोग-कृष्णभावनाभावित कर्म
अध्याय 6: ध्यानयोग
अध्याय 7: भगवद्ज्ञान
अध्याय 8: भगवत्प्राप्ति
अध्याय 9: परम गुह्य ज्ञान
अध्याय 10: श्री भगवान् का ऐश्वर्य
अध्याय 11: विराट रूप
अध्याय 12: भक्तियोग
अध्याय 13: प्रकृति, पुरुष तथा चेतना
अध्याय 14: प्रकृति के तीन गुण
अध्याय 15: पुरुषोत्तम योग
अध्याय 16: दैवी तथा आसुरी स्वभाव
अध्याय 17: श्रद्धा के विभाग
अध्याय 18: उपसंहार-संन्यास की सिद्धि